Home > M marathi blog > पैगंबर मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व सल्लम की गुस्ताखी से सिर्फ मुसलमानों को ही तकलीफ नहीं होती- बलके सारी इंसानियत को तकलीफ होती है -सूफी रिज़वान रज़ा खान-

पैगंबर मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व सल्लम की गुस्ताखी से सिर्फ मुसलमानों को ही तकलीफ नहीं होती- बलके सारी इंसानियत को तकलीफ होती है -सूफी रिज़वान रज़ा खान-

The insolence of Prophet Muhammad sallallahu 'alaihi wa sallam does not only hurt Muslims but all humanity suffers Sufi Rizwan Raza Khan

पैगंबर मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व सल्लम की गुस्ताखी से सिर्फ मुसलमानों को ही तकलीफ नहीं होती-    बलके सारी इंसानियत को तकलीफ होती है    -सूफी रिज़वान रज़ा खान-
X

-पैगंबर मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व सल्लम की गुस्ताखी से सिर्फ मुसलमानों को ही तकलीफ नहीं होती-

बलके सारी इंसानियत को तकलीफ होती है

-सूफी रिज़वान रज़ा खान-

१५ जून-यवतमाल

नूपुर शर्मा व नवीन जिंदल द्वारा एक टीवी डिबेट मे मोहम्मद पैगंबर पर गलत टिप्पणी को लेकर देश के हालात खराब होते हुए नजर आ रहे हैं

मुस्लिम समुदाय की ओर से लगातार नूपुर शर्मा व नवीन जिंदल के गिरफ्तारी की मांग की जा रही है !

सूफी सुन्नी संस्थाओं व उल्माओ द्वारा लगातार देश में शांति बनाए रखने और अपनी बात कानून के मुताबिक रखने की अपील की जा रही है

बुधवार दिनांक 15 जून को सुन्नी मुस्लिम एजुकेशन अकैडमी के संस्थापक व AIUMB के यवतमाल जिला अध्यक्ष सूफी रिजवान रजा खान ने प्रेस मीडिया को बताया के इस्लाम हमेशा से अमन पसंद रहा है

और इस्लाम से ताल्लुक रखने वाले हमेशा इंसाफ पसंद रहे हैं

हमारे ज़बानो से हमेशा ज़ालिम को ज़ालिम और मज़लूम को मज़लूम ही कहा जाएगा

नबि की गुस्ताखी से सिर्फ मुसलमानों को ही तकलीफ नहीं होती

बलके दुनिया ए इंसानियत को तकलीफ होती है

इसलिए हमें हुकूमत से उम्मीद है कि गलत टिप्पणी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी

सूफी रिज़वान रज़ा खान

Updated : 16 Jun 2022 3:01 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top